खोरठा भाषा के अनेक शब्दों के एक शब्द

खोरठा भाषा के अनेक शब्दों के एक शब्द | खोरठा के ढेइर सबदेक एगो शब्द

खोरठा के अनेक शब्दों के एक शब्द,खोरठा भाषा में अनेक शब्दों के एक शब्द one word of many words in Khortha language ,khortha bhasha mein kae shabdon ka ek shabd, खोरठा भाषा में अनेक शब्दों के एक शब्द download pdf, download pdf खोरठा भाषा में अनेक शब्दों के एक शब्द , खोरठा भाषा में अनेक शब्दों के एक शब्द jac exam 10th and 12th

अनेक शब्द                                 —      एक शब्द

1- उ भूइयाँ जेकर में कुछो नाञ उपजे हे —  ऊसर (वह भूमि जिसमें कुछ भी पैदा नहीं होता है )

2-लिएक — दिएक बात   — पैसा -कौड़ी ( लेन – देन वाली बात )                                      

3-जेकर बिहा नाञ होले हे  — कुआँर ( जिसका विवाह नही हुआ है )

4- जे लूगा के नाञ पिंधल गेले है — नावा लूगा (जिस वस्त्र को नहीं पहना गया है )

5- जे दूसर में ढेस लगावे हे— ढेंसाहा (जो दूसरो पर आरोप लगाता है )

6-जे जेकर देही थल-थल हे — मोटगर ( जिसका शरीर मोटा है )

7-जे ऐने -ओने छिटकाइल हे — छितराइल (जो इधर -उधर बिखरा हुआ)

8- जेकर ऐगो आँइख हे  — काना (जिसका एक आँख है )

9- जहाँ से दूगो राइस्ता छिनगाहे  — दूबटीया (जहाँ से दो रास्ता अलग होते हैं)

10- जे गाय दूध दे हे— लाघेर (जो गाय दूध देती है )

11-जेकर मुड़े चुइल नखे  — मुडरा (जिसके माथे पर बाल नहीं है)

12- जेकर आगु दने के चुइल उदड़ गेल हे — चाँदिल ( जिसके माथे के आगे बाल नहीं है )

13- गरू-पठरू डिंगायक जगS  — गंउठ (जहाँ बैल – बकरी एकत्र होते हैं )

14- जे ठिना बिन मालिक के गुरू – पठरू के बाँधल जा हे — कानी होद ( जहाँ आवारा बैल बकरी को कैदकर रखा जाता है )

15- खेतेक धाइरे गाढ़ा जेकर में पानी रहे हे   —   डाँड़ी (खेत के किनारे का गड्ढा जिसमें पानी रहता है)

16- जे गरू के कुबड़ निकइल जा हे— कुबड़ /बसाहा (जिस बैल का कुबड़ निकल जाता है)

17- जहाँ बिहा होवS हे — मड़वा ( जहाँ विवाह होता है )

18-जे गोरू -छगरी के चरावे हे —  गोरखिया ( जो बैल – बकरी को चराता है )

19- जे गाय -छगरी नाञ ढनुवाइ हे — बइहली ( जो गाय- बकरी बच्चा नहीं देती है )

20- जेटा पोइड़ गेले हे  — पोड़ल ( जो जल गया है )

21-जेकर आगा धारदार हे — चउंख ( जिसका मुँह धारदार हो )

22- जेकर सवाद पानी -पानी लागे हे — पइनसोर (जिसका स्वाद पानी जैसा लगता है )

23 – जे दू बाजी बिहा करे हे  —  साँघा ( जो दो बार विवाह करता है )

24- जे छोड़ी घर से भाइग के बिहा करे हे— उढ़इरी ( जो लड़की घर से भाग शादी करती है )

25- घर बाढ़ल के बाइद जे डिंगा हे  —   बढँना (घर मे झाड़ु लगाने के बाद जो जमा होता है)

26- जेकर माइ –बाप मोइर गेले हे— टूवर ( जिसका माँ – बाप मर गया हो )

27- जेटा लाल बरंग होवे हे   —   ललहुन ( जो लाल – रंग का होता है )

28 – जे जनी चर-चर बइयजके हे —   चेरचरी (जो स्त्री तीखा बोलती है )

29- झगड़ा करने वाला मरद  —   झगराहा (लड़ाई करने वाला मर्द )

30- झगड़ा करने वाली जनी — झगराही ( लड़ाई करने वाली स्त्री )

31- जे जनी नाचे गावे हे — नचनी ( जो स्त्री नाच गान करती है )

32- जनी के भेंसें में नाचे वाला मरद — नटुआ ( स्त्री के भेष में नाचने वाला पुरूष )

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *