संथाली भाषा व्याकरण सर्वनाम ( उजनुमः )

संथाली भाषा व्याकरण सर्वनाम ( उजनुमः )| Santhali bhasha vyakaran (Sarvanam)|Santhali language grammar (Pronoun)

संथाली भाषा व्याकरण सर्वनाम ( उजनुमः ),Santhali language grammar (Pronoun),Santhali bhasha vyakaran (Sarvanam), Santhali bhasha ,Best Santhali language grammar ,Santhali literature , संथाली भाषा व्याकरण सर्वनाम ( उजनुमः ) download pdf, download pdf संथाली भाषा व्याकरण सर्वनाम ( उजनुमः ), संथाली भाषा व्याकरण   सर्वनाम ( उजनुमः ) jac exam 10th and 12th ,

 संथाली भाषा व्याकरण सर्वनाम ( उजनुमः )        

# सर्वनाम  ( उजनुमः ) :à संज्ञा के बदले जिन शब्दों का व्यवहार किया जाता है उसे सर्वनाम कहते हैं जैसे:– इञ दो आम , उनी , नुई , ओकोय ,ओना हानाए चेत् ।

# सर्वनाम ( उजनुमः ) के छः भेद होतें है :

1.पुरूषवाचक सर्वनाम , 2. निजवाचक सर्वनाम ,3. निश्चयवाचक सर्वनाम , 4.अनिश्चयवाचक सर्वनाम ,5. संबंधवाचक सर्वनाम ,6. प्रश्नवाचक सर्वनाम

 (1)-  पुरूषवाचक सर्वनाम :-जिस शब्द से बोलने वाले ,सुनने वाले तथा जिसके विषय में कहा जाय ,केवल मात्र पुरूषों का बोध होता है ।

    जैसे ;– इञ दो तेहेञ बाञ जोमा । आम चालाकमे । ञेल में बूधन । सामू हेच् एना । उनी दो कोलकतातायसेन  लेना । इन वाक्यों में इञ ,आम उनी पुरूषवाचक सर्वनाम  है।    

(2) :- निजवाचक सर्वनाम :– जिस  शब्द से अपने लिये अथवा आत्मार्थक का बोध होता है ,उसे निजवाचक  सर्वनाम कहते हैं ।

जैसे :– इञ आपनार तेगेञ कामीया ।आम आपनार हिसाब हिसाब ञेलताम ।

(3)- निश्चयवाचक सर्वनाम :- जिस सर्वनाम से किसी निश्चत पदार्थ का बोध होता है, उसे निश्चयवाचक सर्वनाम कहतें  हैं ।

जैसे :–  ओनापुथी आगुय मे । हाना गिदरा होहोवाय में ।

(4)- अनिश्चयवाचक सर्वनाम:- जिस सर्वनाम से किसी निश्चित पदार्थ का बोध नहीं होता है , उसे अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहतें हैं।

जैसे :– जहानाक् आगुय मे ।   

  (5)- संबंधवाचक सर्वनाम :- जिस सर्वनाम से किसी संज्ञा या अन्य सर्वनाम का  संवंध जाना जाता है , उसे संबंधवाचक सर्वनाम कहतें हैं ।

जैसे:-  ओकोय को सेन लेना ।

  (6)- प्रश्नवाचक सर्वनाम :-  जिस सर्वनाम से प्रश्न का बोध होता है उसे प्रश्न वाचक सर्वनाम कहतें हैं ।

जैसे –  ओकोय होड़ कानाय ?ओकोय डांगरा कानाय ?

NOTE : Dear viewers ,Please write down your valuable comment ( कृपया अपनी बहुमूल्य टिप्पणी लिखें )

इन्हें भी पढ़े :

: संथाली भाषा व्याकरण संज्ञा ( ञुनुम )

: झारखंड का प्राचीन इतिहास

: Best jpsc pt mcq

: झारखंड की पुनस्थार्पन एवं पुनर्वास नीति

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *