हो भाषा

हो भाषा का परिचय |Ho bhasha ka parichay|Ho language Introduction

हो भाषा ,हो भाषा का परिचय ,Ho bhasha ka parichay, हो भाषा का परिचय download pdf, download pdf हो भाषा , हो भाषा का परिचय jac exam 10th and 12th,Ho language Introduction,हो साहित्य और भाषा,Ho literature and language

(1) à सामान्य परिचय :– ‘ हो ‘ भाषा मुण्डा एक भाषा की एक शाखा है । मुण्डा या मुण्डारी भाषा का  उध्दव  ‘ खेखारी ‘ से मानते हैं ।खेखारी आस्ट्रिक भाषा परिवार की एक मुख्य या मूल भाषा है । इस भाषा को समूल को आस्ट्रीक  या आस्ट्रो –एशियाटिक भी कहा जाता है ।

(2)à  ध्वनितंत्र — मुंडा भाषा में ध्वनि तंत्र की अपनी कुछ विशिष्टताएँ हैं,जो हो भाषा में भी विद्यमान है ।इसमें एक का कल्यस्पर्श ध्वनि ( ग्लोटलस्टॉप ) का व्यवहार होता है । संस्कृत मे ‘ अ ‘ के लोप होने पर ‘ ड ‘ चिन्ह का प्रयोग होता है ,परन्तु हो में इसके लिए ( । ) चिन्ह लगता है ।

(3)à ‘ हो ‘  भाषा में क , त ,प , आदि व्यंजनों का एक अवरूध्द रूप भी प्रयुक्त रूपी होता है। अंग्रेजी में इसे ‘ चेक्ड कॉन्सोनेन्ट ‘ कहा जाता है ।हो भाषा से सघोष महाप्राय ध्वनियों का उच्चारण न होने के कारण उनका लोप हो जाता है यथा :-

प्रचलित — अघोषव्यंजन      अप्रचलित — सघोषव्यंजन

क वर्ग    — क,ग,ड़                ख ,  घ ।

च वर्ग    — च,ज,ञ               छ ,  झ ।

ट वर्ग    — ट,ड,ण                 ठ ,  ढ ।

त वर्ग    — त,द,न                थ ,  घ ।

प वर्ग    – प,ब,म                फ ,  भ ।

य वर्ग — र ,ल ,स ,ह             य ,व ,श ,ष ।

हो भाषा की यह विशेषता है कि शब्द के आरम्भ में ड़ , ञ जैसी नाशिक्य ध्वनियों का प्रयोग हो सकता है । जो आर्य भाषाओं में नहीं है । ड ,ञ का प्रयोग शब्द के मध्य और अंत मे भी होता है।

यथा –सिंड़्बोंगा , आञ ( मैं ) आदि ।

कायपर ने ‘ लिगुआ ‘ नामक पत्रिका ‘ खण्ड ‘ 14 1935 में कोलभाषा ( मुंडा , हो आदि ) के सन्दर्भ में  व्यंजन – परिवर्तन ( कॉन्सोनेन्ट बैरियेशन ) शीर्षक लेख में यह प्रस्तुत किया है कि कहीं -कहीं क ,ख ,ग ,घ ध्वनियाँ ‘ ह् ‘ मे बदल जाती है ।इसमें हो भाषा में ‘ ख ‘ और ‘ घ ‘ ,ल ध्वनियाँ नहीं है ।

जैसे कि पूर्व में उल्लेख किया जाता है । ‘ हो ‘ भाषा में स्पर्शध्वनि के उच्चारण में वायु के अवरोध की क्रिया पूर्ण नहीं होती है, इस कारण स्पर्शध्वनि के स्थान पर ‘ संघषी ‘ ध्वनि का उच्चारण होता है  । यह संघर्षी ध्वनि महाप्राण ‘ ह ‘ रूप में व्यक्त होती है ।यति — होन् , होए , होलोड़ , होनोर   ( आदि ) ।

(4) — रूपतंत्र

‘ हो ‘ भाषा में संस्कृत के भी कई शब्द और ध्वनियाँ मिलती है ,जो आर्य भाषा भाषियों के सम्पर्क में आने का परिणाम लगता है ।संस्कृत का ‘ दारू ‘ हो में ‘ दरू ‘ ( वृक्ष ) के रूप में प्रयुक्त होता है । संस्कृत का ‘ द्रय हो में ‘ दुम्बु ‘ ( पेड़ या पौधा ) के रूप में प्रयुक्त होता है । उसी प्रकार ‘ सीता ‘ का प्रयोग खेत में हल चलाने से उभरी रेखा से है ,जब कि हो भाषा में ‘ सी ‘ शब्द का प्रयोग खेत जोतने के लिए होता है । जिसे ‘ सी ‘ तनी के रूप में बोला जाता है । संस्कृत में ‘ सहा ‘ हो में ‘ सादोम ‘    ( घोड़ा ) के रूप में बोला जाता है ।’ हो ‘ भाषा का साम्य रूपतंत्र एवं वैयाकरणिक दृष्टि से संस्कृत से भी मिलती है जो आर्यभाषा के सम्पर्क में रहने का एक प्रमाण है । यथा :–

_______________________________________________________________

    संस्कृत         एकवचन        व्दिवचन      बहुवचन

_______________________________________________________________

     हो               अहम्         आवाम       वयम

   देवनागरी            आञ          आलिंग      आने

   ( हिन्दी )            मैं           हमदोनों     हमलोग

_______________________________________________________________

परन्तु हिन्दी में व्दिवचन (दो) का लोप हो गया ‘ हो ‘ भाषा की एक विशेषता यह भी है कि क्रिया पदों के एक या अधिक वर्गों की अथवा अक्षर – ध्वनियों की आवृति करती है । यह प्रयोग अर्थ को सघन के लिए किया जाता है , तथा दल (मारना ) कसे ददल ( ज्यादा मारना ) ।

‘ हो ‘ भाषा योगात्मक भाषा में आती है। योगात्मक भाषा की यह विशेषता है कि उसमें सम्बंध तत्व को भी अर्थ – तत्व के साथ जोड़ दिया जाता है । इसके तीन भाग होते हैं :–

(1) -अश्लिष्ट

(2)- श्लिष्ट

(3)- प्रश्लिष्ट

आग्नेय भाषाएँ ( हो सहित ) मध्य योगात्मक ,अन्त्य योगात्मक और पूर्वान्त योगान्तक होती है ।   ‘ हो ‘  भाषा में धातुएँ अक्षर होती है । इनमें प्रायः प्रथम अक्षर पर बलाघात होता है । भाषा शास्त्रियों का अनुसार है कि अक्षर धातु पहले एकाक्षर रही होगी । इनमें क्रिया में उपसर्ग और प्रत्यय भी मिलते है , जो शब्द हिन्दी या देवनागरी लिपि से ‘ हो ‘ भाषा में आये हैं उनमें प्रयुक्त व्यंजन और स्तर में उच्चारण भेद ( ध्वनितंत्र ) के कारण परिवर्तन हो जाता है ।

परन्तु अर्थतंत्र या अर्थ में कोई परिवर्तन नहीं होता है ।यथा —

———————————————————————-

  हिन्दी  —   हो     हिन्दी  —   हो

———————————————————————-

1-  वकील   उकिल    वहन    ओजोन

2-  वंश     बोंस     योगी    जुगि

3-  यात्रा   जतारा    युग     जुग

———————————————————————-

कहीं -कहीं उच्चारण में व्यंजन का लोप भी हो जाता है:–

  हिन्दी   —   हो

  महाजन    माजोन

———————————————————————-

हिन्दी में उच्चारित घोष ध्वनियाँ ’ हो’ में आने पर अघोष हो जाती है —

———————————————————————-

  हिन्दी  — हो         हिन्दी  —  हो

———————————————————————-

  ठीक    टिकि         सुख    सुकु

  घर     गर          खाना   काना

———————————————————————-

‘ हो ’  में संस्कृत शब्द के कई रूप हैं कुछ शब्द अविकल रूपों मिलते है और कुछ ‘ हो ‘ की ध्वनि प्रणाली के अनुसार परिवर्तित रूप में ये शब्द प्राचीन ,मध्य ,और आधुनिक आर्य भाषा काल में मिश्रित हुए होंगें । ‘ हो ‘ में संस्कृत शब्दों का अर्थ ,संकोच , अर्थादेश का अर्थ विस्तार भी हुआ है । कतिपय उदाहरण प्रस्तुत है :—

———————————————————————-

    संस्कृत             हो                 हिन्दी

———————————————————————-

1-   पर्यकम           पारकोम          खाट या खटिया

2-    शकम्            सक्म                पत्ता

3-     तात            ततांग                 पिता

4 –   मानव           मनोवा                 मनुष्य

5 –    दाय             दयि                   नौकर

6-    मूल              मुनु                 मुख्य,प्राचीन

7-    पंचायत          पोंचइति                  पंचायत

8 –   शूकर            सुकरी                    सुअर

9 –   दारू               दरू                     पेड़

10-   छत्रय               चातोय                  छांता

11 –  शमशान             ससन                  कब्रगाह

12 –   प्रधान               परदान                 प्रमुख व्यक्ति

13-     पर्व                पोरोब                  त्योहार

14-     कुछ                किलि                 गोत्र ,वंश

15 –    सूत्रम                सुतम                  सूत

16 –   देशम्                    दिसुम                    देश

17 –   अकृण                   अकिरिंग                बेचना

18 –   समय                   सोमोय                  समय

19-   वक                      बका                     बगुला

20-   दणडम                   डंडोम                     डंडा

21-    परम                     परोम ,व्योरोप             बड़ा

22 –    गुपि               गोप ( गुपितन )                चरवाहा

23 –   रस                       रसि                चावल की शराब या रस

———————————————————————-

 ‘ हो ’ में अनेक शब्द विदेशी भाषाओं से भी आये हैं। यथा फारसी के

———————————————————————-

    फारसी                 हो               हिन्दी

———————————————————————-

1- जर ( सेजर )           जरविड़          विषधर साँप

2- दस्तुर                   दोस्तुर          प्रचलन , प्रथा

3- तहसींल                 तसिल           लगान

4- हाजरी                 हाजिरि           उपस्थिति

5- अरक                   अरकी         रस चावल की शराब या रस

6 – पुस्त                  पुति               पुस्तक

7- तारीक                  तरिक              तिथि

8- फौजदारी                पाउदरि            फौजदारी

9-  मुकदमा              मोकरदमा            मुकदमा

10- खस्सी                  कसी                बकरा

11- अमीन                 उमीन        जमीन पैमाइस करने वाला

———————————————————————-

     अंग्रेजी             योरोपीय हो       हिन्दी

————————————————————————————————————

1-    डॉक्टर             डकडर        चिकित्सक

2-   बटम              बोटोम          बटम

3-   मैशीन             मिसिन        मशीन


इन्हें भी पढ़े : Jharkhand special notes

: Bpsc special Short Notes

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *