karwachauth 1

Karwa Chauth Vrat best

 wish you very happy Karwa Chauth Vrat
Karwa Chauth Puja Vidhi

Best Karwa Chauth Katha | Best Karwa Chauth Puja Vidhi |करवा चौथ व्रत , करवा चौथ व्रत कहानी , करवा चौथ व्रत कथा पूजा 2021

download 1 5

करवा चौथ का व्रत सुहागन महिलाये अपने पति की दीर्घायु के लिए करती है. करवा चौथ का व्रत  कार्तिक महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को सुहागन स्त्रियो द्वारा किया जाता है. यह व्रत हर विवाहित महिला अपने रिवाजो के अनुसार रखती है और अपने जीवन साथी की अच्छी सेहत तथा अच्छी उम्र की प्रार्थना भगवान से करती है.

करवा चौथ व्रत  का मुहूर्त व दिन कब है? (Karva Chauth Muhurat and Date In India)

इस साल 2021 मे करवा चौथ का व्रत 24 october के दिन है. इस दिन पूजन का महुरत 17:48 से 19:05 तक कुल 1 घंटा 17 मिनिट का है. करवा चौथ के दिन चाँद निकलने का समय शाम 7:54 का है.

download 9

Karva Chauth Vrat Pooja vidhi

Best Karva Chauth Vrat Pooja vidhi

करवा चौथ व्रत  की पूजा को करते वक़्त एक पटे पर जल से भरा लोटा एवं एक करवे मे गेहु भरकर रखते है. इस दिन पूजन के लिए दीवार पर या कागज पर चंद्रमा तथा उसके नीचे भगवान शिव और कार्तिकेय की प्रतिमा बनाई जाती है और इसी प्रतिमा की पूजा स्त्रियो द्वारा की जाती है. इस दिन महिलाये सारा दिन व्रत रखती है, यहा तक की वे जल और फल भी ग्रहण नहीं करती. दिन भर की कठोर तपस्या के बाद जब रात्री मे चंद्रमा के दर्शन होते है, तब चंद्रमा की पूजा के बाद यह व्रत पूर्ण होता है. करवा चौथ व्रत मे रात्री की पूजा मे चंद्रमा को अर्द्ध देना, महत्वपूर्ण है. हर वो स्त्री जो व्रत करती है वो चंद्रमा को अर्द्ध जरूर देती है और फिर व्रत पूर्ण होता है. अब अपने व्रत को पूर्ण कर स्त्रिया रात्री मे जल तथा भोजन गृहण करती है

Karwa Chauth Vrat Story ( करवा चौथ व्रत की कथा )

images 10

Karwa Chauth Vrat Story

जब भी कोई स्त्री करवा चौथ का व्रत करती है, तो वह व्रत के दौरान कथा सुनती है.

एक नगर मे एक साहूकार रहता था. उसके सात लड़के और एक लड़की थी . कार्तिक महीने मे जब कृष्ण पक्ष की चतुर्थी आई, तो साहूकार के परिवार की महिलाओ ने भी करवा चौथ व्रत रखा. जब रात्री के समय साहूकार के बेटे भोजन ग्रहण करने बैठे, तो उन्होने साहूकार की बेटी (अपनी बहन) को भी साथ मे भोजन करने के लिए कहा. भाइयो के द्वारा भोजन करने का कहने पर उनकी बहन ने उत्तर दिया,  कि आज मेरा व्रत है. मै चाँद के निकलने पर पूजा विधि सम्पन्न करके ही भोजन करूंगी. भाइयो के द्वारा बहन का  भूख के कारण मुर्झाया हुआ चेहरा देखा नहीं गया. उन्होने अपनी बहन को भोजन कराने के लिए प्रयत्न किया. उन्होने घर के बाहर जाकर अग्नि जला दी.

उस अग्नि का प्रकाश अपनी बहन को दिखाते हुये कहा की देखो बहन चाँद निकाल आया है. तुम चाँद को अर्ध्य देकर और अपनी पूजा करके भोजन गृहण कर लो. अपने भाइयो द्वारा चाँद निकलने की बात सुनकर बहन ने अपनी भाभीयों के पास जाकर कहा. भाभी चाँद निकल आया है चलो पूजा कर ले. परंतु उसकी भाभी अपने पतियों द्वारा की गयी युक्ति को जानती थी. उन्होने अपनी नन्द को भी इस बारे मे बताया और कहा की आप भी इनकी बात पर विश्वास ना करे. परंतु बहन ने भाभीयों की बात पर ध्यान ना देते हुये पूजन संपन्न कर भोजन गृहण कर लिया. इस प्रकार उसका व्रत टूट गया और गणेश जी उससे नाराज हो गए.इसके तुरंत बाद उसका पति बीमार हो गया और घर का सारा रुपया पैसा और धन उसकी बीमारी में खर्च हो गया. अब जब साहूकार की बेटी को अपने द्वारा किए गए गलत व्रत का पता चला, तो उसे बहुत दुख हुआ. उसने अपनी गलती पर पश्चाताप किया . अब उसने पुनः पूरे विधि विधान से व्रत का पूजन किया तथा गणेश जी की पूजा की ।इस बार उसके व्रत तथा श्रध्दा भक्ति को देखते हुये भगवान गणेश उस पर प्रसन्न हो गए. उसके पति को जीवन दान दिया और  उसके परिवार को धन तथा संपत्ति प्रदान की. इस प्रकार जो भी श्रध्दा भक्ति से इस करवा चौथ के व्रत को करता है, वो सारे सांसारिक क्लेशो से मुक्त होकर प्रसन्नता पूर्वक अपना जीवन यापन करता है ।

Karwa Chauth Vrat Udyapan Vidhi (करवा चौथ व्रत उद्यापन विधि)

Karva Chauth 2021 Images 1 scaled 1

करवा चौथ व्रत की उद्यापन विधि के लिए महिलाये अपने घर मे पूड़ी तथा हलवा बनाती  है. अब इन पुड़ियो को एक थाली मे चार-चार के ढेर मे तेरह जगह रखते है. अब इन पुड़ियो के उप्पर थोड़ा थोड़ा हलवा रखते है. अब इसके उप्पर साडी ब्लाउस अपनी इच्छा अनुसार रूपय रखकर तथा उसके आसपास कुमकुम चावल लगाते है. अब इसे अपनी सासु माँ के चरण स्पर्श कराकर उन्हे देते है . अब इन सब के बाद तेरह ब्राह्मणो को भोजन कराते है और उनका पूजन करके तथा दक्षिणा देकर बिदा करते है.करवा चौथ व्रत वाले दिन सारी महिलाये अपनी पूजा कर उद्यापन वाली महिला के घर जाकर अपना भोजन करती है . भोजन के बाद इन सभी महिलाओ को बिंदी लगाकर और सुहाग की सामग्री देकर बिदा किया जाता है. इस प्रकार करवा चौथ व्रत की उद्यापन विधि संपन्न होती है।

1 thought on “Karwa Chauth Vrat best”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *